सौजन्य- राजन काफ्ले - दर्पण संसार
  • शिखर शैलीमा बालगोपालेश्वर